Friday, 1 February 2013

मिया मिट्ठू - दुसरा यजीद


Sudheer Maurya 'Sudheer'
*************************

Miya Mitthu (2nd Yazeed)

कभी मेने सआदत हसन मंटो कि एक कहानी पड़ी थी 'यजीदजिसमे मंटो यजीद की खोज करते दिखाई पड़ते है। बेचारे यजीद के रूप में सही पात्र  पाकर कहानी को खीचते रहते है। कभी भारत के तत्कालीन प्रधान मंत्री श्री नेहरु में  उन्हें यजीद दिखाई पड़ता है कभी किसी में। आखिर में तंग आकर मंटो अपने पैदा होने वाले बच्चे का नाम यजीद रखकर कहानी से छुटकारा पाते हे।
आज अगर मंटो ये कहानी लिखते तो उन्हें यजीद की खोज नहीं करनी पड़तीवो आसानी से इसे ढूंड  लेते। हाँ रिंकल को  तड़पाने वाला कोई यजीद ही हो सकता है। मिया मिट्ठू यकीनन मंटो का यजीद है। यजीद ने तो कर्बला में सिर्फ पानी के लिए तडपाया था पर ये मिया मिट्ठू तो बेचारी लड़कियों को एक - एक सांस के लिए तडपा रहा है। न जाने कितनी मजलूम नाबालिग लड़कियां इसकी कैद में सिसक रही हे। उनके साथ बर्बरता का सलूक किया जा रहा है। मिया मिट्ठू को उसके इन पापो के लिए खुदा कभी मुआफ़ नहीं करगा।

सुधीर मौर्य 'सुधीर'
गंज जलालाबाद , उन्नाव 
209869

4 comments:

  1. http://urvija.parikalpnaa.com/2013/02/blog-post_2.html

    ReplyDelete
    Replies
    1. thanx mem for sharing my article in urs website..

      Delete
  2. आसाराम और उनके परम पुत्र नारायण जी के क़ब्ज़े में शायद रिंकल से ज़यादा होंगी . इसे भी शामिल कर लेते.

    ReplyDelete
    Replies
    1. अगर आप ने मेरी इस पोस्ट की तारीख देखी होती तो ये जान सकते है कि ये पोस्ट तब लिखी गई थी जब आसाराम और नारायण साई के कारनामे उजागर नहीं हुए थे, फिर उनका ज़िकर इस पोस्ट में कैसे हो सकता है। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि जहाँ आसाराम और नारायण साई आज कारागार में हैं वही मियां मिट्ठू आज भी खुलेआम अपने कारनामो को अंज़ाम देने के लिए आज़ाद है। ये फर्क है .....

      Delete