Sunday, 20 May 2012

प्रीत का दीप जला देना



जब तेरे शब्दों की दुनिया
परिवक्व पल्लवित हो जाये
जब तेरे आँचल में खुशियाँ 
अपार अपिर्मित हो जाये
तब चुपके से आकर होले से
तुम प्रीत का दीप जला देना

जब गंगा तट पर गंगा की लहरें
आशीष तुम्हरे ही सर दे
जब नील गगन में उड़ने को
परियां तुमको अपने पर दे
तब चुपके से आकर होले से
तुम प्रीत का दीप जला देना

जब रात खोल कर आँखों को
तेरी आँखों मे ख्वाब सजाने लगे
जब सतरंगी हवा उपवन से बहकर
तेरे पाँव में महावर लगाने लगे
तब चुपके से आकर होले से
तुम प्रीत का दीप जला देना

सुधीर मौर्या 'सुधीर'
गंज जलालाबाद, उन्नाव
२०९८६९
०९६९९७८७६३४


3 comments:

  1. सुन्दर प्रस्तुति, हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  2. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  3. उम्दा प्रतीक्षा गीत .............................वाह

    ReplyDelete