Tuesday, 14 October 2014

डाली: गुड़िआ एक फरेब की...

तूं पूरी मै पूरा

आधी रात का प्यार अधूरा
मॉग कहीं सिन्दूर कहीं
सजती सुहागसेज कहीं
कभी दोस्ती वैर कभी
पति कहीं कौमार्य कही
मन मे कपट आंख मे आंसू
कितने घायल कितने बिस्मिल
तूफान कही कहीं पे साहिल
तूझे मुबारक झूठ तुम्हारा
बस इतना था साथ हमारा.
--सुधीर

8 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बृहस्पतिवार (16-10-2014) को "जब दीप झिलमिलाते हैं" (चर्चा मंच 1768) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. न तू पूरी न मैं पूरा..,
    तू आटे का लड्डू मैं गूंद का चूरा..,
    तू हो जा पारा मैं हो जाऊँ बूरा..,
    देख तू भी अधूरी मैं भी अधूरा.....

    ReplyDelete
  3. ऎसे लिखते हैं लवलेटर.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. ji mem me pryas karunga is tarah prem sandesh likhne ka....bahut aabhar...

      Delete