Thursday, 29 March 2012

शाम-ऐ- तन्हाई में ......



शाम-ऐ-तन्हाई में हमको तुम्हारी याद आती हे
तेरे प्यार की बाते हमे अब तक रुलाती हे


तुन गई तो जीस्त के सब लुत्फ़ चले गए
ख़ाक मेरे बदन की अब हवा उडाती हे


कोई तो देखे मंज़र आँखों से अपनी एसा
तेरे बाद अब मुझको तेरी तस्वीर रुलाती हे


बतायं किस कदर यारो सदमे हम कीने के
उस फरेबिंद की हिकायत फ़ज़ा सुनाती हे





'आह से
सुधीर मौर्या 'सुधीर'
गंज जलालाबाद, उन्नाव
२०९८६९
०९६९९७८७६३४


2 comments:

  1. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete